जैन दर्शन में ज्ञान मीमांसा (Epistemology in Jain Philosophy)

व्यवहार की दृष्टि से ज्ञान का अर्थ जानना, समझना या परिचित होना होता है। प्रत्येक प्राणी अपने इंद्रियों के द्वारा ज्ञान प्राप्त करता…

मौर्य राजवंश : ऐतिहासिक स्रोत एवं उत्पत्ति (Mauryan Dynasty: Historical Sources and Origins)

326 ई.पू. में जब सिकंदर की सेनाएँ पंजाब के विभिन्न राज्यों में विध्वंसक युद्धों में व्यस्त थीं, उस समय मध्य प्रदेश और बिहार…

मगध का उत्कर्ष : हर्यंक, शिशुनाग और नंद वंश का योगदान (Magadh ka Utkarsh: Contribution of Haryanka, Shishunag and Nanda Dynasty)

मगध महाजनपद प्राचीनकाल से ही राजनीतिक उत्थान, पतन एवं सामाजिक-धार्मिक जागृति का केंद्र-बिंदु रहा है। छठीं शताब्दी ई.पू. के सोलह महाजनपदों में से…

छठी शताब्दी ईसापूर्व में भारत की दशा : सोलह महाजनपद (The State of India in the Sixth century BC: Sixteen Mahajanapadas)

आरंभिक भारतीय इतिहास में छठी शताब्दी ई.पू. को एक महत्त्वपूर्ण परिवर्तनकारी काल माना जाता है। यह काल प्रायः आरंभिक राज्यों, नगरों, लोहे के…

बौद्ध धर्म के प्रमुख संप्रदाय और बौद्ध संगीतियाँ (Major Sects of Buddhism and Buddhist Musics)

थेरवाद (स्थविरवाद) बौद्ध धर्म का प्रमुख स्वरूप थेरवाद (स्थविरवाद) है। थेरवादी प्राचीन बौद्ध धर्म के पालि धर्म-ग्रंथों को आधिकारिक मानते हैं तथा अपनी…