मौर्यकालीन अर्थव्यवस्था और भौतिक संस्कृति का प्रसार (Mauryan Economy and Spread of Material Culture)

मौर्यकालीन अर्थव्यवस्था, समाज, धर्म और कला-संबंधी जानकारी के लिए कौटिल्य का अर्थशास्त्र, मेगस्थनीजकृत इंडिका के अवशिष्ट अंश तथा अशोक के अभिलेख महत्त्वपूर्ण स्रोत…

कुषाण राजवंश का इतिहास और कनिष्क महान (The History of Kushan Dynasty and Kanishka the Great)

भारत के राजनीतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास में कुषाण राजवंश एक सीमाचिन्ह है। शकों की तरह कुषाण भी मध्य एशिया से भागकर भारत आये…

भारत में शक (सीथियन) और पार्थियन शासन (Shaka (Scythian) and Parthian Rule in India)

मगध के विशाल मौर्य साम्राज्य की शक्ति के क्षीण होने पर भारत पर पश्चिमोत्तर से पुनः विदेशी आक्रांताओं के आक्रमण प्रारंभ हो गये…

कलिंग का महामेघवाहन वंश और खारवेल (Mahameghavahana Dynasty of Kalinga and Kharavela)

प्राचीन भारत में कलिंग एक समृद्ध राज्य था। प्राचीन कलिंग के राज्य-क्षेत्र के अंतर्गत पुरी और गंजाम के जिले का कुछ भाग, उत्तर…

आंध्र-सातवाहन राजवंश और गौतमीपुत्र सातकर्णि (Andhra-Satavahana Dynasty and Gautamiputra Satakarni)

सातवाहन वंश भारत का प्राचीन राजवंश था, जिसने तीसरी सदी ई.पू. के अंतिम चरण में केंद्रीय दक्षिण भारत पर शासन करना आरंभ किया।…

शुंग राजवंश : पुष्यमित्र शुंग (Shunga Dynasty : Pushyamitra Shunga)

चंद्रगुप्त मौर्य और चाणक्य द्वारा स्थापित विशाल मौर्य साम्राज्य की लड़खड़ाती दीवार अंततः 185 ई.पू. के आसपास उस समय गिर गई जब ‘सेनानी’…

सम्राट अशोक महान् का मूल्यांकन (Evaluation of Emperor Ashoka the Great)

अशोक भारतीय इतिहास का ही नहीं, विश्व इतिहास के महानतम् शासकों में एक है। एक विजिगिषु शासक, महान् विजेता एवं साम्राज्य-निर्माता, धर्म-परायण एवं…

संगम युग : राजनीतिक, समाजार्थिक एवं सांस्कृतिक जीवन (Sangam Age : Political, Socio-economical and Cultural Life)

सुदूर दक्षिण में भारतीय प्रायद्वीप त्रिभुजाकार रूप में कन्याकुमारी तक विस्तृत है जिसे ‘तमिलकम्’ प्रदेश कहा जाता था। दक्षिण भारत में ऐतिहासिक युग…