उन्नीसवीं सदी में मुसलमानों, सिखों एवं पारसियों में सुधार आंदोलन (Reform Movement among Muslims, Sikhs and Zoroastrian in Nineteenth Century)

उन्नीसवीं शताब्दी के आरंभिक वर्षों से ही विभिन्न इस्लामी सुधार आंदोलनों के माध्यम से आम जनता के स्तर पर एक सुस्पष्ट मुस्लिम पहचान…

स्वामी दयानंद सरस्वती और आर्य समाज (Swami Dayanand Saraswati and Arya Samaj)

हिंदू धर्म एवं भारतीय संस्कृति से प्रभावित आर्य समाज के प्रवर्तक दयानंद सरस्वती का जन्म 12 फरवरी 1824 में गुजरात के छोटी-सी रियासत…

उन्नीसवीं सदी में पश्चिमी एवं दक्षिणी भारत में सुधार आंदोलन (Reform Movement in Western and Southern India in 19th Century)

पश्चिमी भारत में सुधारों की शुरूआत उन्नीसवीं सदी के आरंभिक वर्षों में दो अलग-अलग तरीकों से हुई। एक तरीका तो प्राचीन संस्कृत ग्रंथों…

उन्नीसवी सदी में सांस्कृतिक जागरण और बंगाल में सुधार आंदोलन (Cultural Awakening and Reform Movement in Bengal in the Nineteenth Century)

अठारहवीं शताब्दी में यूरोप में एक नवीन बौद्धिक लहर चली, जिसके फलस्वरूप जागृति के एक नये युग का सूत्रपात हुआ। तर्कवाद, अन्वेषणा की…

सांप्रदायिक निर्णय, पूना पैक्ट और गांधीजी का हरिजनोद्धार आंदोलन (Communal decision, Poona Pact and Gandhiji’s Harijoddhar movement)

गोलमेज सम्मेलन में मुस्लिमों एवं सिखों के साथ अनुसूचित जाति के महत्त्वपूर्ण राजनीतिज्ञ डॉ. भीमराव आंबेडकर ने अछूतों के लिए भी पृथक् निर्वाचन…

सविनय अवज्ञा आंदोलन और गांधीजी (Civil Disobedience Movement and Gandhiji)

गांधीजी के नेतृत्व में राष्ट्रीय स्तर चलाया गया दूसरा महत्त्वपूर्ण आंदोलन नागरिक (सविनय) अवज्ञा आंदोलन था, जिसे ‘नमक सत्याग्रह’ के नाम से भी…

कांग्रेस समाजवादी पार्टी (Congress Socialist Party)

भारत में कांग्रेस के समाजवादी विचारधारा सर्वप्रमुख प्रेरणा प्रतीक जवाहरलाल नेहरू तथा सुभाषचंद्र बोस थे। जवाहरलाल नेहरू ने 1927 में उपनिवेशवादी दमन और…

भारत में मजदूर आंदोलन और श्रमिक-संघों का विकास (Labor Movement and Development of Trade Unions in India)

उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्ध में जब आधुनिक उद्योग धीरे-धीरे शुरू हो रहा था और रेलवे, पोस्ट आफिस, कोयला खनन, चाय बागान और टेलीग्राफ…

बंगाल में क्रांतिकारी गतिविधियाँ और चटगाँव विद्रोह समूह (Revolutionary Activities in Bengal and the Chittagong Rebellion Group)

बीसवीं सदी के तीसरे दशक में बंगाल में अतीत में जीनेवाले पुराने ‘दादा’ युगांतर और अनुशीलन के झगड़ों में फँसे हुए थे। कई…